रजिस्टर्ड यूजर        
| न्यू यूजर   रजिस्टर  | चुने सही इंस्टिट्यूट   क्लिक करे  

एमबीए

Updated on: Nov, 13 2013 5:35 AM

कोर्स के बारे में

 

एमबीए का मतलब है मास्टर्स इन बिजनेस एडमिनिस्ट्रेशन। इन दिनों मार्केट में मैनेजमेंट कोर्सेज के काफी वैल्यू है। प्रबंधन के छात्रों को बड़ी कंपनियों में अच्छे पैकेज के अवसर मिल रहे हैं। टॉप बिजनेस कॉलेजों से मैनेजमेंट कोर्स करने वाले स्टूडेंट्स को नामी कंपनियां बड़े लेवल पर हायर कर रही हैं। किसी दूसरी स्ट्रीम के मुकाबले मैनेजमेंट स्टूडेंट्स का भविष्य उज्जवल है।

 

योग्यता

 

आपने किसी भी मान्यता प्राप्त यूनिवर्सिटी से ग्रेजुएशन में 50 प्रतिशत मार्क्स प्राप्त किए हों। अनुसूचित जाति (SC) और अनुसूचित जनजाति (ST) के छात्रों को इस एग्जाम में बैठने के लिए मार्क्स में 5 प्रतिशत छूट की सहूलियत है।

 

 

 

प्रवेश परीक्षा

 

अगर आप टॉप बिजनेस स्कूल्स के एमबीए कोर्सेज में एडमिशन लेना चाहते हैं तो आपको एंट्रेस एग्जाम्स पास करना होगा। आजकल बिना प्रवेश परीक्षा के किसी भी अच्छे बिजनेस स्कूल में एडमिशन मिलना नामुमकिन है। भारत में एमबीए में एडमिशन के लिए सीएटी (CAT) और एमएटी (MAT)  प्रमुख एंट्रेस एग्जाम्स हैं। एमएटी (MAT) है मैनेजमेंट एप्टीट्यूड टेस्ट। इसे एआईएमए (AIMA), दिल्ली द्वारा आयोजित किया जाता है। यह साल में चार बार फरवरी, मई, सितंबर और दिसंबर में आयोजित किया जाता है। इसे क्लियर करके भारत के टॉप बिजनेस स्कूल्स में एडमिशन पाया जा सकता है। भारत के टॉप मैनेजमेंट इंस्टीट्यूट आईआईएम (IIM) में एडमिशन के लिए कॉमन एडमिशन टेस्ट (CAT) आयोजित किया जाता है। लगभग सभी प्रमुख बिजनेस स्कूल सीएटी स्कोर को वैल्यू देते हैं। यह एंट्रेस राष्ट्रीय स्तर पर काफी अहमियत रखता है।

 

आवेदन प्रक्रिया

 

वैसे तो एमबीए एक परास्नातक कोर्स है परन्तु इसकी तैयारी स्कूल के दिनों से ही शुरू कर देना श्रेयस्कर रहता है.  इसके लिए रीडिंग, विश्लेषण, लॉजिकल रीजनिंग, डाटा इंटरप्रिटेशन, शब्दज्ञान, सामान्य-ज्ञान जैसी स्किल्स अपने आपमें विकसित करनी शुरू कर देनी चाहिए.इसके अतिरिक्त एमबीए करने की चाहत रखने वालों को इसमें उपलब्ध विभिन्न स्पेशलाइज़ेशनो में से एक क्षेत्र विशेष चुनकर उसकी पढ़ाई शुरू कर देनी चाहिए.

 

महतवपूर्ण शिक्षण संस्थान

 

  • आंध्र प्रदेश के एमबीए कॉलेजों में एडमिशन के लिए आईसीईटी (ICET)
  • तमिलनाडु के एमबीए कॉलेजों में एडमिशन के लिए टीएएनसीईटी (TANCET)
  • सिम्बायोसिस मैनेजमेंट स्टडीज के लिए एसएनएपी (SNAP)
  • आईसीएफएआई (ICFAI) बिजनेस स्कूल में एडमिशन के लिए आईबीएसएटी (IBSAT)
  • एनएमआईएमएस (NMIMS) के लिए एनएमएटी (NMAT)
  • जेवियर इंस्टीट्यूट ऑफ मैनेजमेंट के लिए एक्सएटी (XAT)
  • जीआईटीएएम (GITAM) इंस्टीट्यूट ऑफ इंटरनेशनल बिजनेस के लिए जीईटी (GET)
  • कॉमन एडमिशन टेस्ट के लिए सीएटी (CAT)
  • मैनेजमेंट एप्टीट्यूड टेस्ट के लिए एमएटी (MAT)
  • ग्रेजुएट मैनेजमेंट एडमिशन टेस्ट के लिए जीएमएटी (GMAT)

 

फीस

 

विभिन्य कॉलेज एवं यूनिवर्सिटी के अनुसार एमबीए फीस 2 से 17 लाख तक हो सकती है. कई कॉलेज छात्रों को इंडस्ट्री ट्रिप पर विदेश भी ले जाते हैं. अतः कोर्स के आधार पर फीस का निर्धारण होता है.

 

 

छात्रवृत्ति

जो छात्र आर्थिक तंगी की वजह से अपने सपनों को पूरा करने में असमर्थ हैं, छात्रवृत्ति उनके लिए किसी वरदान से कम नहीं है। एमबीए में एडमिशन के लिए अधिकतर यूनिवर्सिटीज द्वारा स्कॉलरशिप दी जाती है।

 

रोज़गार

 

एमबीए डिग्रीधारी के लिए भारत तथा विदेशों में अच्छे अवसर हैं. प्रबंधन छात्रों के लिए विभिन्न क्षेत्रों में जॉब के अवसर हैं. यदि आपने बिक्री एवं विपणन में एमबीए किया है तो आपको आसानी से किसी बैंक में सेल्स अफसर, मैनेजर अथवा बीमा अधिकारी की जॉब मिल सकती है.  इसी प्रकार, यदि आपने मानव संसाधन में एमबीए किया है तो आपको किसी रिक्रूटमेंट फर्म में जॉब मिल सकती है. कई आईटी कम्पनियाँ एमबीए पास-आउट्स को ट्रेनी के रूप में रखती हैं तथा एक निश्चित समय के पश्चात उन्हें नौकरी पर रख लेती हैं.

 

वेतनमान

 

एमबीए करने वाले छात्रों का भविष्य उज्जवल है। चूंकि इस फील्ड में सैलरी पैकेज की कोई लिमिट नहीं है, इसलिए यह छात्रों पर निर्भर करता है कि वह कैसे अपनी डिग्री की इस्तेमाल करें। अगर आप देश-विदेश की टॉप कंपनियों में नौकरी पा जाते हैं तो आपको अच्छा पैकेज पाने से कोई नहीं रोक सकता। आज एमबीए करने वाले स्टूडेंट्स 10,000 रुपए महीना से 2.5 लाख रुपए महीना तक कमा रहे हैं। 

 

कोर्स की बाज़ार मे मांग

 

किसी भी शैक्षणिक पाठ्यक्रम की मांग बाज़ार में उसकी मांग एवं आपूर्ति के आंकड़ों पर निर्भर करती है. जैसा की आने वाले कुछ सालो मे देखा जा रहा है की भारत मे विदेशी कम्पनीयो का तेजी से आना हो रहे है इसलिये आने वाले सालो मे बहुत सारे कुशल एमबीए डिग्रीधारियों मैनेजरस की अवास्याकता होगी इसलिये कोर्स करने के बाद स्टूडेंट्स का भाविस्व उज्जवल है.

 

1View Comments

प्रतिक्रिया दें



यहाँ अपनी टिप्पणी पोस्ट करें



  • AnoopNov, 17 2013 11:01 AM

    VERY GOOD ARTICLE